10 Hindi Short Stories With Morality Children | हिंदी और इंग्लिश |

0
953
10 Hindi Short Stories With Morality Children | हिंदी और इंग्लिश |

Today I am writing 10 Hindi Short Stories With Morality Children. These stories are for children, kids only and are also written in Hindi and the English language. Along with ethics, these Hindi and English stories can be quite useful for teachers as well as children.

We Are writing 10 Hindi Short Stories With Morality Children. Below are 20 very interesting stories written in 2 Languages.1.Hindi 2.English. we hope you will like this Hindi or English Story Collection


1. प्यासा कौआ

                                    20 Hindi Short Stories With Morality Children

10 Hindi Short Stories With Morality Children

 

गर्मियों के दिन थे | एक कौआ बहुत प्यासा था उसका गला सुख रहा था | वह इधर उधर उड़ कर पानी की तलाश कर रहा था | पर उसे कही भी पानी दिखाई नहीं दिया |

गर्मियों के मरे सभी जलाशय सुख गए थे | अंत में थका मारा एक मकान के पास आया उसे वह एक घड़ा दिखाई देता है | वो कौआ घड़े के पास गया | उसने उसमे झाककर देका | घड़े में थोडासा पानी था |

पर उसकी चोंच उस पानी तक नहीं पहुंच सकती थी | वो काफी कोशिश कर रहा था फिर भी उसकी चोंच उस पानी तक नहीं पोहोच पा रही थी | अचानक उसे एक उपाय सुझा |

वो जमीन के छोटे छोटे कंकड़ उटाता और वो घड़े में डालने लगा तो देखता क्या वो जैसे जैसे कंकड़ घड़े में डालता वैसा वैसा पानी ऊपर आ रहा था |

कौवे की काफी मेहनत के बाद उसकी चोंच पानी तक पहुंची | कौवे ने जी भर कर पानी पिया और ख़ुशी से वो काव – काव करता |

शीर्षक – मेहनत फल हमेशा मिलता है | जहा चाह,वहा राह !


1. The Thirsty crow 

Hindi Short Stories With Morality Children

 

                                                     It was summer. A crow was very thirsty, his throat was getting dry. He was flying here and looking for water. But he did not see any water. All the reservoirs were dead in summer. At last Taka Mara came to a house and he saw a pitcher.

The crow went to the pitcher. He dabbed in it. There was a little water in the pitcher. But his beak could not reach that water. He was trying hard, yet his beak could not reach even that water. Suddenly suggest a solution.

He would pick up small pebbles of the ground and he started putting it in the pitcher, then he would see if the water was coming up as he put it in the pitcher.

After a lot of effort of the crows, his beak reached the water. The crow drank water in full and he used to moan with pleasure.

Title – Hard work always results. Where there is a will, there is a way!


2.खरगोश और कछुआ

Hindi Short Stories With Morality Children

Rabbit and Tortoise Story

 

कछुआ हमेशा धीरे-धीरे चलता था। कछुए की चाल देख
खरगोश खूब हँसता खुश होता था ।

एक दिन कछुए ने खरगोश से दौड़ की शर्त लगाने की टाण ली । उन दोनों में दौड़ शुरू हुई।
खरगोश बहोत तेजी से दौड़ने लगा। कछुवे की रफ़्तार धीमी होने के कारन खरगोश जल्दी ही कछुए से काफी आगे निकल गया।

अपनी जीत निश्चित मान कर खरगोश ने सोचा, अभी कछुवा काफी पीछे है
। कछुवा धीरे धीरे सामने बढ़ता गया । खरगोश को लगा इतनी जल्दी शर्त जीतने
की जरूरत क्या है? थोड़ी देर पेड़ के नीचे बैठकर थोड़ा आराम कर लेता हु । तो खरगोश ने सोचा जब कछुआ पास आता दिखाई देगा, तो में दौड़कर उससे आगे निकल जाऊँगा और शर्त जीत लूंगा। खुदको पीछे देख कछुआ बहोत नाराज हो गया ।
कछुवे को पीछे देख खरगोश काफी खुश हो गया ।
खरगोश पेड़ की छाया में आया और आराम करने लगा।

कछुआ अब भी काफी पीछे रह गया था। काफी थकान के कारण खरगोश की आँख लग गई ।

जब खरगोश की आँख खुली तो उसने देखा कि कछुआ उसे भी आगे चला गया है और
विजय-रेखा पारकर के मुस्कुरा रहा है।
खरगोश शर्त हार गया।

सिख -धैर्य और लगन से काम करनेवाला विजयी होता है।


2.Rabbit and Tortoise Story

Hindi Short Stories With Morality Children

 

The Tortoise always walked slowly. See turtle move
The rabbit used to laugh a lot.

One day the turtle took a sag from the rabbit to bet on the race. The race started in both of them.
The rabbit started running very fast. Due to the slowing of the tortoise, the hare soon overtook the turtle.

 

Assuming his victory certain, the rabbit thought, now the tortoise is far behind
. The tortoise slowly grew in front. Rabbit thought to win the bet so soon
What is needed? Sitting under the tree for a while, I get some rest. So the rabbit thought that when the turtle would come near, I would run and overtake it and win the bet. Seeing himself behind, the turtle became very angry.


 The rabbit became very happy to see the tortoise behind.
The rabbit came into the shade of the tree and began to rest. Turtle now
Was also left far behind. Due to considerable fatigue, the rabbit got his eye. When the rabbit’s eyes opened, he saw that the turtle had also moved ahead of him and
VijayRekha is smiling at Parker. Rabbit lost the bet.

Sikh – one who works with patience and perseverance wins.


3.अंगूर खट्टे थे

Hindi Short Stories With Morality Children

अंगूर खट्टे थे

एक दिन की बात है एक भूखी लोमड़ी अंगूर के बगीचे से जा रही थी अचानक उसकी नजर
बेलों पर पके हुए अंगूरों के गुच्छे पर पड़ी ।

पक्के हुवे अंगूर देख लोमड़ी के मुँह में पानी आ गया। लोमड़ी अपना मुँह ऊपर की ओर तानकर वो अंगूर को पाने की कोशिश कर रही थी । पर वह उस अंगूर को तोड़ने के लिए सफल न हो सकी। क्यू की अंगूर
काफी ऊँचाई पर थे।अंगूर पाने के लिए लोमड़ी खूब ऊपर उछली, फिर भी
लोमड़ी अंगूरों तक नहीं पहुँच सकी।

जब तक लोमड़ी पूरी तरह थक नहीं गई, तब तक उछलती रही। आखिर कार लोमड़ी थककर उसने अंगूर खाने की उम्मीद छोड़ दी और वहाँ से चली गई । जाते-जाते
कहते गई , “अंगूर खट्टे हैं। ऐसे खट्टे अंगूर कौन खाए?”

शिक्षा -हार मानने में हर्ज क्या?


3. The Grapes Were Sour

                                                       Once upon a time, a hungry fox was leaving the vineyard and suddenly its eyesight A bunch of grapes ripened on the vines.

The fox got water on seeing the grapes that were confirmed. The fox was trying to get the grape by pointing her face upwards. But she could not succeed to pluck the grape. Q’s grapes He was quite high.

The fox jumped high to get a chance, yet The fox could not reach the grapes. The fox kept bouncing until he was completely exhausted.

Finally the car fox tired and gave up hope to eat grapes and left. while going
She went on to say, “Grapes are sour. Who ate such sour grapes?”

Title: What is the harm in accepting defeat?


4.चालाक लोमड़ी

Hindi Short Stories With Morality Children

Clever fox

एक दिन की बात है | एक कौए ने एक छोटे बच्चे के हाथ से रोटी छीन
ली। रोटी छीनने के बाद वह उड़कर एक पेड़ की ऊँची डाली पर जा बैठा और रोटी
खाने लगा। एक चालाक लोमड़ी ने उसे देखा तो उसके मुँह में पानी आया।
वह लोमड़ी उस पेड़ के नीचे जा पहुँची। उसने कौए की ओर देख कर कहा, कौए
राजा, नमस्ते। आप कैसे हो अच्छे तो है ना ?

कौए ने उसे देख कर कोई जवाब नही दिया।

लोमड़ी ने फिर उससे कहा, कौए राजा, आप बहुत सुंदर और
चमकदार दिख रहे हो । यदि आपकी वाणी भी मधुर हुई ,तो आप पक्षियों
के राजा बन जाओगे । जरा आप मुझे अपनी आवाज तो सुनाइए।
मूर्ख कौए सोचने लगा, क्या मैं सचमुच पक्षियों का राजा हूँ। मुझे यह साबित
कर देना चाहिये। उसनेजैसे गाने के लिए अपनी चोंच खोली रोटी का टुकड़ा
चोंच से छूटकर नीचे आ गिरा ।

लोमड़ी रोटी उठाकर तेजीसे भाग गयी।

शिक्षा -झूठी तारीफ करनेवाले से सावधान रहना चाहिए.


4.Clever fox

 

It is a matter of one day. A crow snatched the bread from a small child’s hand
Lee. After snatching the bread, he flew away and sat on the top of a tree and the bread
Started eating When a clever fox saw him, his mouth became watery.
That fox went under that tree. He looked at the crow and said the crow
Hello, King. How are you good are you?

The crow gave no answer to seeing him.

The fox then said to him, crow king, you are very beautiful and
Looking bright If your voice is also sweet, then you birds
Will become king of Just let me hear your voice.
The foolish crow started thinking, am I really the king of birds. Prove it to me
Should be taxed. He opened his beak to sing like a piece of bread
Dropped from the beak and came down.

The fox ran away after picking up the bread.

Education – Beware of false praise


5. ग्रामीण चूहा और शहरी चूहा

Hindi Short Stories With Morality Children

Rural Rat and Urban Rat

एक बार की बात है एक ग्रामीण चूहा था। वह एक खेत में रहता था। उसका एक दोस्त भी था जो शहर में रहता था। एक दिन ग्रामीण
चूहे ने अपने शहरी दोस्त चूहे को खाने पर आमत्रित किया। ग्रामीण चूहे ने अपने शहरी चूहे को मीठे-मीठे बेर, मूंगफली के दाने और कंदमूल खाने को
दिए। पर ताजुब की बात है शहरी चूहे को गाँव का सादा खाना पसंद नही आया। उसने ग्रामीण चूहे से कहा, भाई! सच्ची बात कहूँ तो तुम्हारा यह गांव का खाना
मुझे पसंद’नही आया। यह तो बड़ा घटिया और बेकार किस्म का खाना है। इसमें
कोई स्वाद भी नहीं है। तुम मेरे घर चलो, तो तुम्हें पता चलेगा कि बढ़िया और स्वादिस्ट खाना कैसा होता है!

ग्रामीण चूहे ने शहरी चूहे का निंमत्रण स्वीकार कर लिया। एक दिन वह दोनों शहर के लिए निकल गए । उसके शहरी मित्र ने उसे अजीर,खजूर, शहद, बिस्कुट, पावरोटी, मुरब्बा आदि खाने को दिया। भोजन
बड़ा स्वादिष्ट था।

लेकिन ताजुब की बात ये है स्वादिस्ट भोजन दोनों चैन से भोजन नही कर पाए।
वहाँ बार-बार एक बिल्ली आ जाती तो फिर क्या चूहों को अपनी जान बचाने के
लिये इधर उधर भागना पड़ता था। शहरी चूहे का बिल भी बहुत छोटा और सँकरा
था। ग्रामीण चूहे ने शहरी चूहे से कहा
कितना दुखी जीवन है तुम्हारा, भाई? , ग्रामीण चूहा कहने लगा मैं तो घर लौट जाता हूँ। वहाँ पर में कम से कम शांतिपूर्वक खाना तो खा सकता हूँ। खेत में अपने स्थान पर वापस लौटने पर ग्रामीण चूहे को बड़ी प्रसन्नता हुई।

शिक्षा : – शांति और निर्भयता मे ही सच्चा सुख


5.Rural Rat and Urban Rat

Hindi Short Stories With Morality Children

 

Once upon a time there was a rural mouse. He lived on a farm. He also had a friend who lived in the city. One day rural
Rat invited his urban friend Rat to eat. Rural rats feed their urban rats sweet-berry, peanut and tuber
lamps. But surprisingly, the urban rat did not like the simple village food. He said to the rural rat, brother! Truly speaking, this is your village food
I didn’t like it. This is very poor and useless food. in this
There is no taste either. If you come to my house, you will know what it is like to have a good and tasty meal!

Rural rats accepted the control of urban rats. One day both of them left for the city. His urban friend gave him azir, dates, honey, biscuits, Pavarotti, jam, etc. food
It was very tasty.

But it is a matter of surprise that the Swedish food could not eat both peacefully.
If a cat comes there, again and again, do the mice save their lives?
Had to run around there. Urban rat bill too small and narrow
Was. Rural mouse told the urban mouse
How sad is your life, brother? , The rural rat said, I return home. At least I can eat there peacefully. Returning to their place on the farm, the rural rate was happy.

Title: – True happiness in peace and fearlessness


6. काला चिटा और लाल चिटी

Hindi Short Stories With Morality Children

एक दिन की बात है गर्मियों के दिन थे। तेज धूप थी और मौसम साफ था।
अनाज भी भरपूर था। ऐसे समय पर एक काला चिटा भरपेट खाना खाकर
गीत गाने में मग्न था। उसने देखा, कुछ चींटियाँ खाने की सामग्री लेकर
जा रही हैं।

शायद चीटिया भविष्य के लिए खाना संग्रह कर रही थीं। चींटियों
को देखकर वह हँसने लगा। उनमे से एक चींटी उसकी दोस्त थी।
काला चिटा ने उस लाल चींटी से कहा, “तुम सब कितनी लालची हो! इस खुशी के
मौके पर भी काम कर रही हो! वो कहने लगा तरस आता है तुम पर!” चींटी ने जवाब
दिया, काले चिट्टे भाई, हम लोग बरसात के लिए खाने की सामग्री जमा कर
रहे हैं।

गर्मियों ख़तम हो जाती है | बरसात का मौसम शुरू हुआ। आकाश में
काले बादल छा गए। खुली धूप जाती रही! अब काला चिटे के लिए भोजन जुटाना
मुश्किल हो गया था । आखिरकार उसके सामने भूखा मरने की समस्या
खड़ी हो गई।

एक दिन काला चिट्टा ने अपनी दोस्त चींटी का दरवाजा
खटखटाया। उसने कहा, चींटी बहन कृपा कर मुझे कुछ खाने के
लिए दो। मैं बहुत दिनों से भूखा हूँ। चींटी ने जवाब दिया, “गर्मी के दिनों में तो
तुम गीत में मगन होकर इधर-उधर घूमते रहे भाई , अब बरसात के मौसम
में कही जाकर नाचो ना। तुम जैसे आलसी को मैं अनाज का एक भी दाना नहीं दे
सकती।” और उसने झट पटाके से दरवाजा बंद कर दिया।

 

शिक्षा:-आज की बचत ही कल काम आती है


 

6. Black Chit and Red Chitty

Hindi Short Stories With Morality Children

Once upon a time there were summer days. It was sunny and the weather was open.
Grain was also rich. At such a time, after eating a black pestle
The song was engrossed in singing. He saw some ants taking food items
Are going

Perhaps Cheetia was collecting food for the future. The ants
He started laughing on seeing One of them was his ant.
Kala Chita said to that red ant, “How greedy you all are! Of this happiness
You are also working on the spot! He started feeling sorry for you! “Ant replied
Dia, black blogged brother, we collect food items for the rain
Have been.

Summer is over. The rainy season started. in the sky
Dark clouds clouded. The open sun kept going! Now raise food for the black pyre
It was difficult. Finally the problem of starving in front of him
She stood up.

One day Kala Chitta’s door to his friend Ant
Knocked. She said, and sister, please me eat something
Take it I have been hungry for many days. The ant replied, “On summer days
You were merry in the song and wandered here and there, now it is a rainy season
Go dancing somewhere. I don’t give a single grain of lazy to you
Can. “And he quickly cracked the door.

Today’s savings only work tomorrow


7.लालची कुत्ता 

Hindi Short Stories With Morality Children

Bait Dog

एक बार की बात है एक कुत्ते को हड्डी का एक टुकड़ा रस्ते पर पड़ा मिल गया। उसे
अपने मुँह मे दबाकर वह एक कोने में जाकर बैट गया | वह थोड़ी देर तक
उस हड्डी के टुकड़े को चूसता रहा। बाद में वो वहीं सो गया। जब
उसकी नींद खुली तो उसे काफी जोरों की प्यास लगी। मुँह मे हड्डी का टुकड़ा
दबाए वह पानी की खोज में निकल पड़ा।

वह एक तालाब के किनारे गया। पानी पीने के लिये वह निचे झुका,
तो उसे पानी में अपनी ही परछाई दिखाई दी। उसे लगा, नदी में कोई
दूसरा कुत्ता(Dog) भी है उस कुत्ते(Dog) के मुह मे भी हड्डी का टुकड़ा है। कुत्ते(Dog) के मन
में इस हड्डी के टुकड़े को हथिया लेने का विचार उसके मन में आया। उसने गुस्से में
आकर जैसे ही भौंकने के लिये अपना मुँह खोला, तो उसके मुँह से हड्डी का
टुकड़ा नदी मे जा गिरा। लालच में उसने अपने मुँह की हड्डी भी गँवा
दी।

शिक्षा:- लालच का फल बुरा होता है।


7.Bait Dog

Hindi Short Stories With Morality Children

Once upon a time, a dog found a piece of bone lying on the road. Him
Pressing in his mouth, he went to the corner and bat. That for a while
He kept sucking that piece of bone. Later he slept there itself. when
When he woke up, he felt very thirsty. Piece of bone in the mouth
Pressed, he set out in search of water.

He went to the edge of a pond. He bent down to drink water,
So he saw his own shadow in the water. He felt someone in the river
There is also another dog which is also a piece of bone in the mouth of that dog. Dog’s mind
I thought of grabbing this piece of bone. He got angry
As soon as he comes to open his mouth to bark, then from his mouth bone
The piece fell into the river. He also lost his mouth bone in greed
Granted.

The fruit of greed is bad.


8.मधुमक्खी और कबूतर 

Hindi Short Stories With Morality Children

The Bee and pigeon

एक बार की बात है | एक मधुमक्खी थी। एक बार वह उड़ती हुई एक तालाब के पास से जा रही थी।

अचानक वह उस तालाब के पानी में गिर गई। उसके पंख पूरी तरह से गीले
हो गए। अब वो उड़ भी नही सकती थी। उसका मरना तय था।

तालाब के पास ही के पेड़ पर एक कबूतर बैठा हुआ था। उसने
मधुमक्खी(रानी मक्खी) को पानी में डूबते हुए देखा कबूतर ने पेड़ से एक पत्ता
तोड़ा उसे अपनी चोंच में पकड़कर तालाब में मधुमक्खी(रानी मक्खी) के पास गिरा
दिया। धीरेधीरे मधुमक्खी(रानी मक्खी) उस पत्ते पर चढ़ गई थोड़ी देर में उसके
पंख सूख गये उड़ने के लिए तैयार हो गयी । उसने कबूतर को धन्यवाद दिया।

फिर वह उड़ कर काफी दूर चली गई।कुछ दिन के बाद कबूतर पर एक संकट आया ।

वह पेड़ की डाली पर आँख बंद कर सो रहा था। तभी एक लड़के ने गुलेर से उस
पर निशाना लगाया । कबूतर इस खतरे से अनजान था उसने सोचा भी नहीं होगा|

फिर क्या। मधुमक्खी ने लड़के को निशाना साधते हुए देख लिया था।

मधुमक्खी उड़कर लड़के के पास आ पहुँची।उसने लड़के के हाथ में काट लिया।

लड़के के हाथ से गुलेर जमीं पर गिर गया| दर्द के मारे वह जोर-जोर से चीखने लगा चिल्लाने लगा ।
लड़के की चीख सुनकर कबूतर जाग उठा उसने अपनी जान बचाने
के लिए मधुमक्खी को धन्यवाद किया और मजे से उड़ने लगा ।

सिख:- अच्छे लोग हमेशा दूसरो की मदद है।


8.The Bee and pigeon

Hindi Short Stories With Morality Children

Once upon a time. There was a bee. Once, she was passing by a flying pond.

Suddenly she fell into the water of that pond. Her wings fully wet
Have become. Now she could not even fly. He was certain to die.

A pigeon was sitting on the tree near the pond. He
Saw the bee drowning in water. A pigeon leaves a tree
Broke him by holding his beak and fell near the bee in the pond
gave. The soft bee climbed on that leaf. In a while
The wings dried up and got ready to fly. He thanked the pigeon.

Then she flew away and went far enough.

A few days later there was a crisis on the pigeon. That tree
Dali was sleeping with his eyes closed. Then a boy asked Guler
Targeted on The pigeon was unaware of this danger,

he would not have thought. Then what. Bee had targeted the boy. Bee flew to the boy. He took a bite in the boy’s hand. boy’s
Guler fell on the ground with his hand. In pain, he started screaming loudly.
Hearing the boy’s scream, the pigeon woke up to save his life
Thanked the bee for having fun and started flying.

Title: – Good people always help others.


9.किसान और जादुई बदक

Hindi Short Stories With Morality Children

Peasant and Magical Duck

एक दिन की बात है एक किसान के पास एक जादुई बदक था । वह रोज एक
सोने(Gold) का अंडा देती थी। किसान सोने के अंडे को बाजार में बेच देता
था। इससे उसे अच्छी आमदनी(Income) हो जाती थी। थोड़े ही दिनों में किसान
अमीर(Reach) हो गया। उसने एक आलीशान मकान बनवाया। इसमें वह अपनी
पत्नी तथा बच्चों के साथ आनन्द(Happy) से रहने लगा।

बहुत दिनों तक इसी तरह चलता रहा। एक दिन किसान
ने सोचा, यदि मैं इस बदक के शरीर से सारे अंडे निकाल लूँ, तो
में एक दिन में ही मालामाल हो जाऊँगा।

किसान ने एक बड़ा-सा चाकू लिया और बदक का पेट
चीर डाला। परंतु बदक के पेट में से उसे एक भी अंडा नही मिला।
किसान को अपनी गलती पर बड़ा दुःख(guilty ) हुआ। वह पछताने लगा।
उसकी हालत पागलों जैसी हो गयी। बदक मर गयी । उसे बदक
से रोज एक सोने का अंड़ा मिलता था अब उसे वह कभी नही मिल
सकता था।

शिक्षा -लालच बुरी बला है।


9.Peasant and Magical Duck

Hindi Short Stories With Morality Children

Once upon a time, a farmer had a magical rogue. That one everyday
Used to give golden egg. Farmer would sell gold eggs in the market
Was. This earned him a good income. Farmer in a few days
He became rich. He built a luxurious house. In it he
Lived happily with wife and children.

This went on for many days. One day farmer
Thought, if I remove all the eggs from this badass’s body, then
 I will become rich in a day.

The farmer took a big knife and patted the stomach
Ripped off But he did not get a single egg from Badak’s stomach.
The farmer felt guilty over his mistake. He started regretting it.
His condition became crazy. I died Him bad
Used to get a gold egg every day, now he never got it
could.

Title:- Greed is bad.


10.दो बकरे

Hindi Short Stories With Morality Children

Two goats

दो बकरे थे। एक काले रंग का था एक सफ़ेद रंग का था।
एक दिन वे दोनों झरने पर बने पुल से जा रहे थे। काला बकरा पुल के इस
एक साइड से और सफ़ेद बकरा दूसरे साइड से आ रहा था। पुल के बीचो-बीच
दोनों बकरो का आमना सामना हुआ। दोनों अकड़कर खड़े हो गए।
पुल बहुत ही संकीर्ण था। एक बार में उस पुल पर से एक ही जानवर
पुल से जा सकता था।

काले बकरे ने सफ़ेद बकरे से गुर्रा कर कहा, तू मेरे रास्ते
से हट जा। सफ़ेद बकरे ने भी इसी प्रकार गुर्रा कर जवाब दिया, अबे
कालिए, वापस चला जा, वरना मैं तुझे इस झरने में फेंक दूँगा।

वे दोनो थोडी देर तक एक-दूसरे को धमकाते
रहे। उसके बाद दौनों एक दूसरे से भिड़ गए। फिर क्या था! दोनों
अपना-अपना संतुलन खो बैठे और लड़खड़ाकर झरने मे जा गिरे। वे
झरने की धारा के साथ बहने लगे। थोड़ी देर में ही दोनों डूब कर मर
गए।

इसी तरह दूसरी बार दो बकरियाँ इसी पुल के
बीचोबीच आमने-सामने आ गईं। वे दोनो समझदार एंव शांत मिजाज
वाली थीं। उनमें से एक बकरी बैठ गई। उसने दूसरी बकरी को अपने
शरीर के ऊपर से जाने दिया। उसके बाद वह खड़ी हो गई। धीरे- धीरे
चल कर उसने भी पुल पार कर लिया।

शिक्षा -क्रोध दुख का मूल है, शांति खुशी की खान है


10.Two goats

Hindi Short Stories With Morality Children

There were two goats. One was black and one was white.
One day both of them were going through the bridge over the waterfall. Black goat bridge of this
The white goat was coming from one side and the white goat from the other side. In the middle of the bridge
Both the goats faced off. Both stood up together.
The bridge was very narrow. One animal at a time on that bridge
Could go through the bridge.

The black goat growled with the white goat and said, “You are my way
Get out of it. “The white goat also growled and replied,” Abe
Let’s go back, or I’ll throw you into this waterfall. “

They both threatened each other for a while
are. After that, the two ran into each other. Then what was there! Both
Lost his balance and stumbled and fell into the waterfall. They
It started flowing along the stream of waterfall. Both drown in a short while
went.

Similarly, for the second time, two goats of this bridge
They came face to face in the middle. They are both sensible and calm
Were One of them sat the goat? He gave the second goat his
Let go of the body. She then stood up. slowly
He also crossed the bridge by walking.

Title – anger is the root of sorrow, peace is the mine of happiness


 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here